फॉरेक्स

रॉयल कैपिटल मार्केट्स 100 से ज्यादा फ़ोरेक्स करेंसी में ट्रेडिंग की सुविधा देता है। रॉयल कैपिटल मार्केट के सभी प्रकार के अकाउंट्स और MT5 तथा मोबाइल प्लेटफॉर्म सहित सभी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म में फोरेक्स ट्रेडिंग किया जा सकता है।

सबसे कम स्प्रेड्स

करेंसी जोड़ियों में बिड और आस्क प्राइस के बीच अंतर सबसे कम होता है।

प्रवेश करने के लिए सबसे सरल मार्केट

आप 10 डॉलर की छोटी राशि से शुरुआत करके बड़े ओर्डर्स तक जा सकते हैं।

सबसे बड़ा लेवरेज

हमारे MetaTrader 5 अकाउंट्स में करेंसी ट्रेडिंग बढ़ाने के लिए हम 1:1000 का लेवरेज रेशियो देते हैं।

बिजली सा तेज निष्पादन

हमारे उच्च स्तरीय लिक्विडिटी प्रोवाइडर्स 2 मिलीसेकंड में कार्य निष्पादन करते हैं।

अकाउंट प्रकार की तुलना करें

ROYAL MiniECN

प्रारंभिक डिपॉज़िट: $10

अकाउंट करेंसी: USD, EUR, GBP, BTC, XRP, ETH

स्प्रेड फ्लोट कर रहा है: 1.4 pip

लेवरेज 1000:1 तक

कमीशन: कोई नहीं

ट्रेड: 0.001 लॉट से

प्लेटफॉर्म: MetaTrader5

ROYAL ECN

प्रारंभिक डिपॉज़िट: $ 2000

अकाउंट करेंसी: USD, EUR, GBP, BTC, XRP, ETH

0.0 स्प्रेड फ्लोट कर रहा है: 0.0 pip

लेवरेज 500:1 तक

कमीशन: $ 5 प्रति लॉट

ट्रेड: 0.01 पार्टी लॉट से

प्लेटफॉर्म: MetaTrader5

फॉरेक्स में निवेश करना
आप अक्सर इसके बारे में सुनते हैं, लेकिन हर कोई नहीं जानता कि यह असल में क्या है। बेशक, हम फॉरेक्स के बारे में बात कर रहे हैं, जो दुनिया का सबसे महत्वपूर्ण विदेशी एक्सचेंज मार्केट है। इसका इतिहास और विशेषता क्या है? हम इस आर्टिकल में यह सब समझाने की कोशिश करेंगे।

फॉरेक्स मार्केट की विशेषताएँ
फॉरेक्स सबसे अधिक गतिशील है और साथ ही सबसे महत्वपूर्ण वैश्विक मार्केट है, वैश्विक मार्केट जहां पूरी वैश्विक अर्थव्यवस्था और ट्रेडिंग मिलती हैं। इसका कोई भौतिक स्थान नहीं है, और इसके कामकाज का पूरा तंत्र कंप्यूटर नेटवर्क के ज़रिए किया जाता है। फॉरेक्स को FX मार्केट, फॉरेक्स मार्केट या करेंसी मार्केट भी कहा जाता है। यह ट्रेडर्स का मार्केट है, यानी एक ऐसा मार्केट जो व्यक्तियों और संस्थाओं को एक साथ जोड़ता है जो सभी उपलब्ध फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट्स का इस्तेमाल करके शॉर्ट-टर्म मार्केट लेनदेन करते हैं।

फॉरेक्स कैसे काम करता है?
एक वर्चुअल इलेक्ट्रॉनिक मार्केट के रूप में, यह हफ्ते में 5 दिन सोमवार से शुक्रवार तक खुला रहता है, इनमें यह 24 घंटे लगातार चलता है। इसके दैनिक संचालन के दौरान, प्रत्येक दिन जब यह खुलता है, इसमें 3 ट्रेडिंग सेशन होते हैं। ये सेशन, आम बोल-चाल में, इन इंस्ट्रूमेंट्स की कीमतों में परिवर्तन के कारण फाइनेंशियल लाभ प्राप्त करने के लिए मार्केट पर रजिस्टर्ड़ फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट्स को खरीदने और बेचने के सभी लेनदेन हैं।
फॉरेक्स मार्केट में, ये सेशन करेंसी पेयर्स, इंडिसीस या माल या शेयर्स के लिए CFD (कांट्रैक्ट फॉर डिफ्रेंस) की खरीद और बिक्री लेन देन हैं। प्रत्येक ट्रेडिंग सेशन 8 घंटे तक रहता है – एशिया में समय 00:00 से 08:00 यूनिवर्सल टाइम (GMT) है, लंदन में सेशन सुबह 8:00 बजे शुरू होता है और शाम 4:00 GMT तक रहता है, और पूरा सेशन उत्तरी अमेरिका में 4:00 p.m. से 24:00 p.m. GMT तक समाप्त होता है।

फॉरेक्स मार्केट की शुरुआत और इतिहास
तकनीकी विकास के परिणामस्वरूप फॉरेक्स मार्केट काफी तेजी से उभरा है। पूरी बात मुख्य रूप से 1971 से प्रभावित थी और फिर संयुक्त राज्य अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन का डॉलर को सोने में एक्सचेंज को निलंबित करने का फ़ैसला। यह सबसे महत्वपूर्ण पलों में से एक था जिसने सोने में परिवर्तित करेन्सीज़ की निर्भरता को प्रभावित किया। यह उसकी स्वतंत्रता की शुरुआत थी। इस निर्णय ने मांग और आपूर्ति पर निर्भर मार्केट को जन्म दिया, जिसने करेन्सीज़ के मूल्य को निर्धारित किया।
विधायी परिणामों के अलावा, फॉरेक्स मार्केट का गतिशील विकास तकनीकी प्रगति, इंटरनेट के विकास और जल्दी से हो रहे आर्थिक विकास से प्रभावित था। डिजिटेलाईजेशन द्वारा एक बटन दबाते ही वर्चूअल मनी ट्रान्स्फ़र जैसी चीज़ें सम्भव होने लगी, जिसके परिणामस्वरूप एक फ़्रेंड्ली रिसेप्शन और इस तरह के समाधान विकसित करने की इच्छा पैदा हुई।
1990 के दशक में, टेक्नॉलोज़ी के विकास और वैश्विक नेटवर्क तक बढ़ती पहुंच के कारण, फॉरेक्स ब्रोकर्स के रूप में जानी जाने वाली कंपनियों की स्थापना की गई, जिसने फॉरन एक्सचेंज मार्केट और लीवरेज्ड अकाउंट तक पहुंच को सक्षम किया। यह उनके द्वारा बनाए गए डेडिकेटेड ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से किया गया था, जिसने दुनिया में व्यक्तिगत निवेशकों के बीच ट्रेडिंग को सक्षम किया। उस समय इस फॉरेक्स मार्केट के बनने की शुरुआत हुई थी, जिसे कि आज हम जानते हैं ।

सबसे लोकप्रिय करेंसी पेयर्स और उनके फ़ंक्शन
करेंसी पेयर्स चार मुख्य ग्रूप्स में बांटे गए हैं: मेजर करेंसी पेयर्स, माइनर करेंसी पेयर्स, क्रॉस और इग्ज़ॉटिक करेंसी पेयर्स। इस बटवारे को समझने से मार्केट के कामकाज का कॉन्सेप्ट समझना भी संभव हो जाएगा।

  • मेन और सेकंडेरी करेंसी पेयर्स में हमेशा डॉलर होता है – मेजर पेयर्स, EUR/USD, USD/JPY, GBP/USD और USD/CHF हैं, माइनर पेयर्स, USD/CAD, AUD/USD और NZD/USD हैं।
  • बिना डॉलर के करेंसी पेयर्स को क्रॉस पेयर्स कहा जाता है, इनके उदाहरण हैं, EUR/JPY, GBP/CHF, AUD/CAD, आदि।
  • अन्य सभी पेयर्स को इग्ज़ॉटिक कहा जाता है, क्योंकि उनकी मात्रा इस मार्केट पर दैनिक मात्रा के 10% से अधिक नहीं है। ये पेयर्स आम तौर पर कम गतिशील होते हैं और कम परिवर्तनशील होते हैं।

ट्रेंड-दर-ट्रेंड के आधार पर ट्रेडिंग करके, आप करेंसीज़ का आदान-प्रदान करते समय लाभ कमा सकते हैं – यह मार्केट का दिल है। मार्केट में अच्छी तरह से निवेश करने के लिए, आपको यह सीखने की जरूरत है कि यह कैसे काम करता है। उच्चतम लाभ प्राप्त करने के लिए कोई भी एक “सुनहरा तरीक़ा” नहीं है। सबसे सुरक्षित और संभवत: सबसे सरल रणनीति ट्रेंड्ज़ पर नज़र रखना और उनका पालन करना है। हालांकि, पूरी बात महान भावनाओं से जुड़ी हुई है, क्योंकि दुनिया में ऐसा कोई अन्य ऐसेट मार्केट नहीं है जो अपने प्रतिभागियों को इतने सारे इम्प्रेशन्स प्रदान करे।