क्रिप्टो

क्रिप्टोकरेंसी पूरी तरह से विकेंद्रीकृत हैं, जिसका अर्थ है कोई केंद्रीय बैंक या संगठन उसे नियंत्रित नहीं करता। इसलिए भारी उतार चढ़ाव वाली क्रिप्टोकरेंसी ऊंचे मुनाफे की संभावना के साथ निवेश के लिए एक आकर्षक क्षेत्र है।

हमारे किफ़ायती दाम, उच्च लिक्विडिटी और विश्वसनीय निष्पादन का लाभ उठाते हुए क्रिप्टोकरेंसी के तेजी से बढ़ते मार्केट से मुनाफा कमाएं।

प्रवेश लागत

प्रवेश लागत

कम

लेवरेज

लेवरेज

2:1

परिचय

परिचय

आसान

क्रिप्टोकरेंसी दुनिया

क्रिप्टोकरेंसी

विश्व

अकाउंट प्रकार की तुलना करें

ROYAL MiniECN

प्रारंभिक डिपॉज़िट: $10

अकाउंट करेंसी: USD, EUR, GBP, BTC, XRP, ETH

स्प्रेड फ्लोट कर रहा है: 1.4 pip

लेवरेज 1000:1 तक

कमीशन: कोई नहीं

ट्रेड: 0.001 लॉट से

प्लेटफॉर्म: MetaTrader5

ROYAL ECN

प्रारंभिक डिपॉज़िट: $ 2000

अकाउंट करेंसी: USD, EUR, GBP, BTC, XRP, ETH

0.0 स्प्रेड फ्लोट कर रहा है: 0.0 pip

लेवरेज 500:1 तक

कमीशन: $ 5 प्रति लॉट

ट्रेड: 0.01 पार्टी लॉट से

प्लेटफॉर्म: MetaTrader5

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश
क्रिप्टोकरेंसी – कुछ लोग दैनिक आधार पर उनका इस्तेमाल करते हैं, कईयों ने कभी यह शब्द भी नहीं सुना, और कुछ अन्य लोग उनके बारे में अक्सर सुनते हैं, लेकिन जानते नहीं हैं कि यह क्या चीज है। सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन है, जो सबसे पहले आया था और इसमें निवेश करने की हिम्मत रखने वाले कई लोगों ने काफी मुनाफा कमाया। वास्तव में क्रिप्टोकरेंसी क्या हैं, और क्या वे रुचि लेने के लायक है?
क्रिप्टोकरेंसी की विशेषताएं
उसका नाम ही पूर्ण शब्दप्रयोग का एक संक्षिप्त नाम है – क्रिप्टोग्राफिक करेंसी। अस्सन शब्दों में कहें तो, क्रिप्टोकरेंसी एक वर्चुअल करेंसी हैं, यानी सभी लेन-देन में इसका प्रयोग इलेक्ट्रोनिक रूप से होता है। ये अपने मालिकों के कम्प्यूटर्स और मोबाइल फोन के एक विशेष एप्लिकेशन में रखी होती है। सामान्य पैसे के विपरीत, कोई भी संस्था क्रिप्टोग्राफिक करेंसीस की निगरानी नहीं करती है। इसका मतलब है कि उसकी कीमत मार्केट तंत्र से प्रभावित होती है, जिसके बारे में नीचे विस्तृत चर्चा की जाएगी। किसी भी क्रिप्टोकरेंसी की प्रत्येक इकाई का अपना एक अनूठा कोड होता है, जिससे यह नकल या बार-बार इस्तेमाल के विरुद्ध सुरक्षित रहती है।
क्रिप्टोकरेंसी में एक और चीज है जो उसे पारंपरिक करेंसी से अलग करती है। जिस अकाउंट में क्रिप्टोकरेंसी रखी जाती है, उसे बेलीफ जब्त नहीं कर सकता और ना ही ब्लॉक कर सकता है। क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने के तीन तरीके हैं। पहला है, क्रिप्टो एक्सचेंज पर केवल करेंसी खरीदना और इसकी कीमत में वृद्धि और कमी के अनुसार ट्रेडिंग करना। दूसरा विकल्प है, क्रिप्टोकरेंसी कॉन्ट्रैक्ट्स में निवेश करना, जहाँ कंक्लूजन और एकज़िट कीमत के बीच का अंतर उनका संभावित मुनाफा होता है। दूसरी और, निवेश करने का सबसे सरल लेकिन साथ ही सबसे कम लोकप्रिय विकल्प है – बाइनरी ओपशन्स। एक निश्चित समयकाल में मूल्य की दिशा पर सट्टेबाजी से ज्यादा यह कुछ नहीं है।
क्रिप्टोकरेंसी की कीमत को प्रभावित करने वाले कारक
क्रिप्टो और पारंपरिक करेंसीस, दोनों के मामले में मांग और आपूर्ति उनकी कीमत पर भारी प्रभाव डालती है। जितनी कम वर्चुअल करेंसी मार्केट होगी और जितनी अधिक वह खरीदी जाएगी, उसका मूल्य उतना ही अधिक होगा। इसके विपरीत, आपूर्ति जितनी अधिक होगी और मांग कम होगी, क्रिप्टो मूल्य उतना ही कम होगा। हालांकि, यह याद रखने योग्य है कि क्रिप्टोकरेंसी की आपूर्ति सीमित है और समय के साथ कम होती जाती है।
क्रिप्टोकरेंसी की कीमत उनके निष्कर्षण की लागत से भी प्रभावित होती है। क्रिप्टोकरेंसी माइनर्स द्वारा वर्चुअल करेंसी “खोदी” जाती हैं, और यह एक विशेष साधन (एक्सकेवेटर्स) द्वारा किया जाता है। समय के साथ, उनका निष्कर्षण अधिक कठिन होता जाता है और माइनर्स की लागतें बढ़ती जाती हैं, जिससे स्वयं करेंसीस की कीमत बढ़ती है।
बेशक, क्रिप्टोकरेंसी दर की बात आने पर उनकी उपयोगिता भी बहुत महत्वपूर्ण है। क्रिप्टोकरेंसी केवल तभी उपयोगी है जब आप उन्हें किसी प्रकार उपयोग में ला सकें, उदाहरण के लिए भुगतान के लिए या विभिन्न निवेश करने में।
जैसे पहले उल्लेख किया है, जितने अधिक लोग कोई वर्चुअल करेंसी खरीदना चाहेंगे, उसकी कीमत उतनी ही अधिक होगी। इसलिए, यदि एक क्रिप्टोकरेंसी को गलत मान ली गई, तो इसकी कीमत गिरनी शुरू हो जाती है। कभी-कभी गलत सूचना जानबूझकर प्रसारित की जाती है और इससे कोई क्रिप्टोकरेंसी ध्वस्त भी हो सकती है। आजकल, मुख्य क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन की कीमत, अन्य क्रिप्टोकरेंसी की दरों को भी प्रभावित करती है।
सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसीस
सबसे लोकप्रिय और पहली क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन है। यह 2008 में बनाया गया था और इसका सर्जक अभी तक अनजान है। अन्य वर्चुअल करेंसी भी हैं। 2011 में लाइटकोईन बनाया गया, जिसे बिटकॉइन का छोटा भाई कहा जाता है। सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी में से एक है इथिरीयाम, जो 2015 से मौजूद है। बिटकॉइन के विपरीत, इससे ट्रांसमिशन के अलावा, तथाकथित स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट भी बनाए जा सकते हैं। रिपल भी उल्लेखनीय है, क्योंकि यह ब्लॉकचेन की तुलना में एक अलग तकनीक पर आधारित है और इसके संसाधन पहले से स्थापित किए गए हैं।